Search This Blog

~अगर आप मनसुख टाइम्स समाचार पत्र या समाचार पत्र की वेब साईट www.mansukhtimes.com में अपने विज्ञापन चाहते हैं तो कृपया हिन्दी में लिखें या 9457096970, 7902127305 पर सम्पर्क करें | धन्यबाद:~ मुख्य संपादक ~:आवश्यक सुचना:~ मनसुख टाइम्स समाचार पत्र के सभी सम्मानित और प्रिय पाठकों विज्ञापनदाताओं को अबगत कराना है कि मनसुख टाइम्स समाचार पत्र की बड़ती लोकप्रियता को देखते हुये कुछ लोग समाचार पत्र के नाम से अबेध उगाही कर रहे हैं । जिनसे मनसुख टाइम्स समाचार पत्र का कोई सम्बन्ध नही है । अतः आप सभी से निवेदन है यदि इस तरह का कोई भी व्यक्ति आप से धन उगाही का प्रयास करता है तो आप मो. न. 7902127305, 9457096970 नम्बर या सम्बन्धित थाना पुलिस को सूचित कर सकते हैं। इसके अलाबा मनसुख टाइम्स समाचार पत्र में प्रमुख पर्वों पर प्रकाशित विज्ञापन का नगद या चेक भुगतान मनसुख टाइम्स के नाम समाचार पत्र के अधिक्रत प्रतिनिधी को ऊपर दिये नम्बरों पर कॉल करके ही दें । :~ मुख्य संपादक

Wednesday, October 7, 2020

जिम्मेदारों की अनदेखी से जर्जर ...

* जर्जर पंचायत घर बदहाल पंचायत
एटा/जलेसर | जनपद एटा के तहसील जलेसर की ग्राम पंचायत नगवाई का पंचायत भवन जर्जर पड़ा हुआ हैं | वो भी तब जब सरकार गांवो और ग्रामीणों की दशा सुधारने के लिए हर ग्राम पंचायत में ऐसे भवनों का निर्माण करवाती है ताकि इलाकाई ग्रामीण और ग्राम प्रधान गांवो की समस्या और विकास के मुद्दों पर आपसी सहमती से विचार बना कर विकास की रूपरेखा बना सके | लेकिन विकासखंड जलेसर की इस पंचायत में पंचायत घर ही बदहाल पड़ा हुआ है | अब सोचनीय विषय तो यह हैं कि जब पंचायत घर ही बदहाल पड़ा हुआ हैं तो पंचायत क्षेत्र का क्या हाल होगा | हालांकि यहाँ के हालातों पर एक नजर डाली जाए तो इस गांव की समस्या और विकास की प्रगति को जंग सी लगी हुयी हैं | बरहाल ग्राम पंचायत नगवाई के पंचायत भवन की बदहाल स्थिति को अगर शब्दों में वयां किया जाए तो हर तरफ से क्षतिग्रस्त नगवाई के इस पंचायत भवन की दीवारों में बड़ी- बड़ी दरार और छत टूटी हुई हैं | करीब 30 साल पुराने इस पंचायत घर पर 10 साल से कोई निर्माण कार्य नहीं हुआ है | जिम्मेदारों की अनदेखी ऐसी कि खंडर बने इस पंचायत घर का लोग तरह तरह से दुरूपयोग कर रहे हैं | इस सम्बन्ध में ग्राम वासियों का आरोप हैं उनके द्वारा कई बार खंडर में तब्दील पंचायत घर के सुधार हेतु ग्राम प्रधान व सचिव से कहा गया लेकिन किसी ने कोई सुनवाई नहीं की।

No comments:

Post a Comment