Search This Blog

~अगर आप मनसुख टाइम्स समाचार पत्र या समाचार पत्र की वेब साईट www.mansukhtimes.com में अपने विज्ञापन चाहते हैं तो कृपया हिन्दी में लिखें या 9457096970, 7902127305 पर सम्पर्क करें | धन्यबाद:~ मुख्य संपादक ~:आवश्यक सुचना:~ मनसुख टाइम्स समाचार पत्र के सभी सम्मानित और प्रिय पाठकों विज्ञापनदाताओं को अबगत कराना है कि मनसुख टाइम्स समाचार पत्र की बड़ती लोकप्रियता को देखते हुये कुछ लोग समाचार पत्र के नाम से अबेध उगाही कर रहे हैं । जिनसे मनसुख टाइम्स समाचार पत्र का कोई सम्बन्ध नही है । अतः आप सभी से निवेदन है यदि इस तरह का कोई भी व्यक्ति आप से धन उगाही का प्रयास करता है तो आप मो. न. 7902127305, 9457096970 नम्बर या सम्बन्धित थाना पुलिस को सूचित कर सकते हैं। इसके अलाबा मनसुख टाइम्स समाचार पत्र में प्रमुख पर्वों पर प्रकाशित विज्ञापन का नगद या चेक भुगतान मनसुख टाइम्स के नाम समाचार पत्र के अधिक्रत प्रतिनिधी को ऊपर दिये नम्बरों पर कॉल करके ही दें । :~ मुख्य संपादक

Wednesday, October 14, 2020

अधिकारी मेहरवान कर्मचारी बेलगाम

मथुरा के डाक घर में कर्मचारियों की मनमानी

मथुरा |


जनपद में अधिकारियों की अनदेखी से कर्मचारी किस तरह बेलगाम हैं यह तो तहसील महावन के ग्राम हयातपुर डाक घर पर देखने से स्पष्ट होता हैं | जहां या तो अधिकाँश समय तेनात कर्मचारी गायब रहते हैं या फिर घंटे दो घंटे बैठने के बाद निकल लेते हैं | इस सम्बन्ध में स्थानीय लोगों का दबी जुबान आरोप हैं कि महावन तहसील के ग्राम हयातपुर पोस्टल कोड़ 281305 स्थित ब्रांच के डाकघर में कोई कर्मचारी दस दस दिन बीतने पर भी नहीं मिलता जिससे वो सरकार की डाक सेवा का लाभ नहीं लेपाते | हालत ऐसी हैं कि आस पास के लोगों को यह तक नहीं पता कि इस डाक घर पर किस किस कर्मचारी के तैनाती है | इसके पीछे के कारण यह हैं कि कोई कोई आता ही नहीं और जो आते भी हैं उनका कोई समय निर्धारित | बताया तो यहाँ तक जाता हैं कि यह डाक घर लम्बे समय से सिर्फ कागजों में ही चल रहा है और यहाँ तेनात कर्मचारी अनुपस्थित रहने के बाबजूद अपनी उपस्थिति दर्ज कराते रहते हैं | यही बजह हैं कि यहाँ डाक सेवा मृत सी पड़ी हुई हैं | इस सम्बन्ध में सूत्रों के दावों की बात करें तो बताते हैं कि वर्ष 2010 से पहले खाताधारकों की संख्या काफी थी | लेकिन जेसे ही जिम्मेदार कर्मचारियों का स्थानांतरण हुआ खाता धारकों की संख्या गिरती चली गयी | इसके अलाबा डाक सेवा को ध्वस्त करने में यहाँ के डाकिया (पोस्टमैन) भी काफी हद तक दोषी बताये गये हैं लोगों का आरोप हैं कि इलाकाई डाकिया अधिकाँश तौर पर वितरित की जाने बाली डाक सामिग्री आसपास की दुकानों व गाँव के नुक्कड़-चौराहे सडक किनारे रह रहे लोगो के घर देकर अपनी ड्यूटी से पल्ला झाड लेते हैं | लेकिन डाक विभाग से लोगों का भरोसा तब उतने लगता हैं जब उनकी डाक मनमानी के तहत वितरित की जाती हैं जिसकी पहुच गयी वो खुश किस्मत होते हैं बाकी लोगों के साथ डाक सामिग्री रखने बाले लोग न सिर्फ निजी स्वार्थों की पूर्ती करते हैं बल्कि डाक गुम करके अपनी रंजिश भी निकालते  हैं | हालांकि इस सम्बन्ध में स्थानीय निवासी राज का आरोप हैं कि इस पोस्ट ऑफिस में तैनात कर्मचारी लाहपरबाह और अयोग्य हैं | उन पर अंग्रेजी तो दूर हिन्दी भाषा भी सही से लिखना नहीं आती | राज ने बताया कि कुछ दिन पूर्व मेरी डाक आई तो मैंने ऑनलाइन ट्रैक करके पता लगाया कि डाक कहाँ पर है | इंडिया पोस्ट की वेबसाइट से पता चला कि डाक हयातपुर बीओ द्वारा रिसीव की गयी वो भी तब जब सुबह 10:30 बजे तक पोस्टमैन व पोस्ट ऑफिस में तैनात ब्रांच पोस्ट मास्टर का कोई अता पता नहीं, ऐसे में केसे और किसने डाक रिसीव की स्पष्ट नहीं कहा जा सकता | लेकिन जब महावन डाकघर में संपर्क किया तो बताया गया कि डाक कर्मचारी कहीं दूसरे गांव में खाता खोल रहे हैं | पूछने पर अधिकारी कर्मचारी इस बात को लेकर स्पष्ट भी नहीं बता पाए और चुप्पी साध ली | अब जब ऐसे हाल यहाँ तेनात कर्मचारियों के होगे तो डाक सेवा का हाल बेहाल होना तो लाजमी हैं ही साथ ही इन कामचोर कर्मचारियों पर बड़े अधिकारियों के पूर्ण आशीर्बाद की उम्मीद भी हैं | 


No comments:

Post a Comment