Search This Blog

~अगर आप मनसुख टाइम्स समाचार पत्र या समाचार पत्र की वेब साईट www.mansukhtimes.com में अपने विज्ञापन चाहते हैं तो कृपया हिन्दी में लिखें या 9457096970, 7902127305 पर सम्पर्क करें | धन्यबाद:~ मुख्य संपादक ~:आवश्यक सुचना:~ मनसुख टाइम्स समाचार पत्र के सभी सम्मानित और प्रिय पाठकों विज्ञापनदाताओं को अबगत कराना है कि मनसुख टाइम्स समाचार पत्र की बड़ती लोकप्रियता को देखते हुये कुछ लोग समाचार पत्र के नाम से अबेध उगाही कर रहे हैं । जिनसे मनसुख टाइम्स समाचार पत्र का कोई सम्बन्ध नही है । अतः आप सभी से निवेदन है यदि इस तरह का कोई भी व्यक्ति आप से धन उगाही का प्रयास करता है तो आप मो. न. 7902127305, 9457096970 नम्बर या सम्बन्धित थाना पुलिस को सूचित कर सकते हैं। इसके अलाबा मनसुख टाइम्स समाचार पत्र में प्रमुख पर्वों पर प्रकाशित विज्ञापन का नगद या चेक भुगतान मनसुख टाइम्स के नाम समाचार पत्र के अधिक्रत प्रतिनिधी को ऊपर दिये नम्बरों पर कॉल करके ही दें । :~ मुख्य संपादक

Monday, October 12, 2020

मथुरा में महिला चिकित्सक ने माँगी शुबिधा शुल्क

शिकायत के बाद भी नहीं हुई अब तक कार्यवाई

मथुरा | सूबे की योगी सरकार भ्रष्टाचार मिटाने के भले लाख दावे करे लेकिन असलियत में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगता नजर नहीं आ रहा | नतीजा न तो भ्रष्टाचार की शिकायतों को संज्ञान लिया जा रहा हैं और न ही पीड़ितों को न्याय मिल पा रहा हैं | यही बजह हैं कि भ्रष्टाचारी निरंकुस हो गये हैं | जिसका एक  नमूना हैं जनपद मथुरा तहसील महावन के ग्राम हयातपुर निवासी बीनू पत्नी सुनील जिनसे करीब ढेड़ वर्ष पूर्व जिला महिला चिकित्सालय की चिकित्सक ने उपचार के नाम पर 15 सौ रूपये की अबेध माँग की गयी | इतना ही नहीं पैसे म देनें पर मरीज और तीमारदार को अस्पताल से निकाल दिया गया, पीड़ित ने इसकी शिकायत सीएमओ से की और पत्नी का इलाज प्राइवेट डाक्टर से कराया | इस दोरान पीड़ित ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी मथुरा, अपर निदेशक स्वास्थ्य विभाग आगरा से लिखित शिकायत की | शिकायतकर्ता ने जिला महिला चिकित्सालय की चिकित्सक पर  इलाज हेतु रुपए वसूलने, उपचार में लापरवाई बरतने और निजी अस्पतालों में इलाज कराने के लिये मजबूर करने का आरोप लगाया हैं  । पीड़ित की शिकायत पर सीएमओ स्तर से चार सदस्य जांच टीम ने जांच की मामले से सम्बन्धित साक्ष्य भी लिये गये बाबजूद आज दो साल बाद भी आरोपी के विरुद्ध कोई कार्यवाई नहीं की गयी उल्टा तमाम तरह से पीड़ित प्ररिवार पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया गया ।


No comments:

Post a Comment