Search This Blog

~अगर आप मनसुख टाइम्स समाचार पत्र या समाचार पत्र की वेब साईट www.mansukhtimes.com में अपने विज्ञापन चाहते हैं तो कृपया हिन्दी में लिखें या 9457096970, 7902127305 पर सम्पर्क करें | धन्यबाद:~ मुख्य संपादक ~:आवश्यक सुचना:~ मनसुख टाइम्स समाचार पत्र के सभी सम्मानित और प्रिय पाठकों विज्ञापनदाताओं को अबगत कराना है कि मनसुख टाइम्स समाचार पत्र की बड़ती लोकप्रियता को देखते हुये कुछ लोग समाचार पत्र के नाम से अबेध उगाही कर रहे हैं । जिनसे मनसुख टाइम्स समाचार पत्र का कोई सम्बन्ध नही है । अतः आप सभी से निवेदन है यदि इस तरह का कोई भी व्यक्ति आप से धन उगाही का प्रयास करता है तो आप मो. न. 7902127305, 9457096970 नम्बर या सम्बन्धित थाना पुलिस को सूचित कर सकते हैं। इसके अलाबा मनसुख टाइम्स समाचार पत्र में प्रमुख पर्वों पर प्रकाशित विज्ञापन का नगद या चेक भुगतान मनसुख टाइम्स के नाम समाचार पत्र के अधिक्रत प्रतिनिधी को ऊपर दिये नम्बरों पर कॉल करके ही दें । :~ मुख्य संपादक

Wednesday, October 14, 2020

घोटालों का गढ़ बना एटा सीएमओ कार्यालय

फर्जी नोकरी के बाद विज्ञापन घोटाला, कार्यवाई तो दूर जाँच की जहमत तक नहीं उठाते जिम्मेदार अफसर

बबलू चक्रबर्ती

एटा |


देश और प्रदेश की सरकार भले भ्रष्टाचार मुक्त भारत बनाने का दावा करें | लेकिन सरकार के उन सारे दावों को कोई और नहीं सरकारी विभागों में बैठे उन्ही के नुमायेंदे ठेंगा दिखाये हुये हैं | जो नियम कानून की अनदेखी करते हुये न सिर्फ मनमानी कर रहे हैं बल्कि तरह तरह के फर्जीवाड़े कर जेबें गर्म करने में जुटे हुये हैं | शायद यही कारण हैं कि घपले, घोटालों के माध्यम से सरकारी धन की जमकर लूट की जा रही हैं | जिसमें अब्बल नम्बर पर हैं जनपद एटा का मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय जहाँ बीते गुजरे समय शासन की रोक के बाद भी न सिर्फ चहेतों को रेवड़ी की भांति नोकरी बाँट दी, बल्कि जेसे ही इस फर्जीवाड़े का भाडा फूटा तो कई नोकरी छोड़ कर भी निकल लिये | लेकिन सोचनीय बाकी मसले की जाँच आज तक बीरबल की खिचडी की भांति आज तक नहीं पक पायी नतीजा दोषियों पर आज तक कार्यवाई नहीं हो सकी, हालांकि इस फर्जीवाड़े पर कार्यवाई न होने का एक कारण ईमानदार अधिकारियों का अभाव भी रहा | लेकिन दंग करने बाली बात तो यह हैं कि अभी नोकरी में हुये फर्जीवाड़े में कोई उचित कार्यवाई हो भी नहीं हो पायी कि उससे पहले ही इस विभाग की जड़ों को खोखला करने में जुटे दीमक समान लोगों द्वारा आमजन को जागरूक करने हेतु समाचार पत्रों में प्रकाशित कराए जाने बाले स्वास्थ सम्बन्धी विज्ञापनों का महाघोटाले निकल कर सामने आ गया | जिस पर जब पड़ताल की तो जो निकल कर आया वो बेहद ही चोकाने बाला था | इस सम्बन्ध में नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर कार्यालय के एक व्यक्ति ने बताया कि एटा सीएमओ कार्यालय के कर्मचारियों से सांठ गाँठ और कमीशन के तहत बीते कई वर्षों से एक शातिर व्यक्ति द्वारा विज्ञापन के नाम पर सरकारी धन को हड़पा जा रहा हैं | बताया कि स्वास्थ सम्बन्धी जानकारी सुबिधा एवं योजनाओं से आमजन को जागरूक करने हेतु शासन समय समय पर स्थानीय स्वास्थ विभाग के माध्यम से प्रचार प्रसार कराता हैं जिसके तहत बहुप्रसारित राष्ट्रीय और स्थानीय समाचार पत्रों में विज्ञापन प्रकाशित कराए जाने का नियम हैं | लेकिन जनपद एटा में यह नियम हवा हवाई हैं | बीते कई वर्षों से मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय से नियमों को ताख में रख गिनी चुनी प्रतिया आने बाले समाचार पत्र में तमाम प्रकार के सरकारी विज्ञापन प्रकाशित करके न सिर्फ कागजी कोरम पूरा किया जा रहा हैं | बल्कि कमीशन के तहत सरकारी धन का गबन किया जा रहा हैं | इस सम्बन्ध में सूत्र बताते हैं कि विज्ञापन घोटाले का एक ताजा नमूना हाल ही में गुजरा विश्व मानसिक दिवस पर जरी किया गया भी विज्ञापन हैं | जो राष्ट्रीय समाचार पत्र के साथ साथ स्थानीय समाचार पत्र में प्रकाशित कराया जाना था | लेकिन कमीशनखोरों ने इस दिवस पर प्रकाशित होने बाला विज्ञापन तीन बहुप्रसारित समाचार पत्र के साथ साथ एक अनियमित चंद प्रतियां आने बाले ऐसे समाचार पत्र को भी प्रकाशन हेतु दे दिया जिसके नाम से तक लोग परिचित नहीं हैं | बरहाल इस बार विश्व मानसिक दिवस पर सीएमओ कार्यालय से जारी हुये विज्ञापन घोटाले का मामला तो मात्र बानगी हैं वर्ना तो एटा सीएमओ कार्यालय से बीते पाँच वर्षों में जारी विज्ञापनों की जाँच की जाए तो लाखों का विज्ञापन घोटाला निकलने से नहीं बच सकता | देखते हैं कि जनपद के स्वास्थ विभाग की कमान सम्हाल रहे खुद को ईमानदार साबित करने बाले एटा सीएमओ इस ओर क्या कार्यवाई करते हैं ?

No comments:

Post a Comment