Search This Blog

~अगर आप मनसुख टाइम्स समाचार पत्र या समाचार पत्र की वेब साईट www.mansukhtimes.com में अपने विज्ञापन चाहते हैं तो कृपया हिन्दी में लिखें या 9457096970, 7902127305 पर सम्पर्क करें | धन्यबाद:~ मुख्य संपादक ~:आवश्यक सुचना:~ मनसुख टाइम्स समाचार पत्र के सभी सम्मानित और प्रिय पाठकों विज्ञापनदाताओं को अबगत कराना है कि मनसुख टाइम्स समाचार पत्र की बड़ती लोकप्रियता को देखते हुये कुछ लोग समाचार पत्र के नाम से अबेध उगाही कर रहे हैं । जिनसे मनसुख टाइम्स समाचार पत्र का कोई सम्बन्ध नही है । अतः आप सभी से निवेदन है यदि इस तरह का कोई भी व्यक्ति आप से धन उगाही का प्रयास करता है तो आप मो. न. 7902127305, 9457096970 नम्बर या सम्बन्धित थाना पुलिस को सूचित कर सकते हैं। इसके अलाबा मनसुख टाइम्स समाचार पत्र में प्रमुख पर्वों पर प्रकाशित विज्ञापन का नगद या चेक भुगतान मनसुख टाइम्स के नाम समाचार पत्र के अधिक्रत प्रतिनिधी को ऊपर दिये नम्बरों पर कॉल करके ही दें । :~ मुख्य संपादक

Tuesday, August 27, 2019

पत्रकारों की गिरफ्तारी के विरोध में डीएम को सोपा ज्ञापन

खबर से खिसियाई पुलिस ने बिना नोटिस कसा शिकंजा, पत्रकार जगत में आक्रोश, उच्च स्तरीय जांच की मांग
                             अनिल कुमार यश 
नोएडा ।
अपराध और अपराधियों पर शिकंजा कसने के मामले में मीडिया की खबरों से सुर्खिया बटोरने बाले एसएसपी गौतमबुध नगर ने ऐसा अहंकारी कदम उठा डाला कि मीडिया जगत में ही आक्रोश की ज्वालामुखी धधक उठी, जगह जगह आक्रोश और ज्ञापन के दौर तब शुरू हो गये जब उन्होंने बिना नोटिस दिये चार पत्रकारों को ब्लेकमेलिंग के आरोप में बिना किसी ठोस सबूत के न सिर्फ गिरफ्तार कर जेल भेज दिया बल्कि एक पर इनाम भी थोप दिया | जनपद पुलिस मुखिया द्वारा उठाये गये कदम भले जो हों लेकिन इस कदम की हर तरफ निंदा होने लगी हैं | नोयडा पुलिस का यह कदम प्रेस की स्वतंत्रता में किसी अवरोधक से कम नहीं साबित होता | क्योंकि प्रेसवार्ता के दौरान एसएसपी ने कहा कि पकड़े गये पत्रकार भ्रामक और तथ्यहीन खबरों को वेब पोर्टल व समाचार पत्र में प्रकाशित करते थे | लेकिन समझ तो यह नहीं आता कि इन भ्रामक और तथ्यहीन प्रकाशित खबरों पर पुलिस द्वारा कोई नोटिस दिया गया | अगर नहीं तो लगता हैं प्रकाशित खबरों से पुलिस जेसे कोई बड़ा डर सताने लगा हो और उसी डर के चलते पत्रकारों का मुहं बंद करने के लिये एक साजिस के तहत ये कार्यवाई की गयी | बरहाल पुलिस के इस हिटलरशाही रवैये से पत्रकारों में भारी आक्रोश हैं |

No comments:

Post a Comment