Search This Blog

~अगर आप मनसुख टाइम्स समाचार पत्र या समाचार पत्र की वेब साईट www.mansukhtimes.com में अपने विज्ञापन चाहते हैं तो कृपया हिन्दी में लिखें या 9457096970, 7902127305 पर सम्पर्क करें | धन्यबाद:~ मुख्य संपादक ~:आवश्यक सुचना:~ मनसुख टाइम्स समाचार पत्र के सभी सम्मानित और प्रिय पाठकों विज्ञापनदाताओं को अबगत कराना है कि मनसुख टाइम्स समाचार पत्र की बड़ती लोकप्रियता को देखते हुये कुछ लोग समाचार पत्र के नाम से अबेध उगाही कर रहे हैं । जिनसे मनसुख टाइम्स समाचार पत्र का कोई सम्बन्ध नही है । अतः आप सभी से निवेदन है यदि इस तरह का कोई भी व्यक्ति आप से धन उगाही का प्रयास करता है तो आप मो. न. 7902127305, 9457096970 नम्बर या सम्बन्धित थाना पुलिस को सूचित कर सकते हैं। इसके अलाबा मनसुख टाइम्स समाचार पत्र में प्रमुख पर्वों पर प्रकाशित विज्ञापन का नगद या चेक भुगतान मनसुख टाइम्स के नाम समाचार पत्र के अधिक्रत प्रतिनिधी को ऊपर दिये नम्बरों पर कॉल करके ही दें । :~ मुख्य संपादक

Friday, August 30, 2019

पुलिस की हिटलरशाही के विरोध पत्रकारों ने भरी हुंकार

शामली में पत्रकारों का अनिश्चितकालीन धरना
फर्जी मकदमा बापस लेने और एसपी को हटाने की मांग
                   बबलू चक्रबर्ती
एटा / शामली ।
आये दिन पत्रकारों के विरुद्ध पुलिस द्वारा दर्ज किये जा रहे फर्जी मुकदमों के विरोध में शामली के पत्रकारों ने बड़ी संख्या में एकजुट होकर हिटलरशाही अंदाज में काम कर रही शामली पुलिस के विरुद्ध आंदोलन का बिगुल फूँक दिया । और कलेक्ट्रेट परिसर में अनिश्चित कालीन धरना शुरू कर दिया, बड़ी संख्या में एकजुट हुये पत्रकार कलेक्ट्रेट परिसर जा पहुचे जहाँ उन्होंने पुलिस के विरुद्ध भारी आक्रोश प्रकट करते हुये अनिश्चित कालीन धरना शुरू कर दिया । धरना देते पत्रकारों ने बताया पुलिस द्वारा किये जा रहे पत्रकारों के उत्पीड़न की शिकायत एसपी शामली से की मगर वो पत्रकारों को न्याय देने के बजाय उत्पीडनकर्ताओं की पक्ष लेते रहे एसपी की इसी अनदेखी से आहत पत्रकार मजबूरन धरने को बिबश हुये और उन्होंने उत्तर प्रदेश शासन से एसपी शामली को हटाने की मांग की है । हालांकि धरने पर बैठे पत्रकारों की खबर ने प्रशासन में हड़कम्प मचा दिया देखते ही देखते एडीएम और खुद एसपी धरना स्थल पर जा पहुचे और पत्रकारों को मनाने का प्रयास किया । लेकिन समाचार लिखे जाने तक पत्रकारों ने धरना खत्म नही किया और बे डटे रहे ।

No comments:

Post a Comment